लोकसभा चुनाव में सभी प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक तथा डिजिटल मीडिया से जुड़े हुए पत्रकारों को चुनाव कवरेज करने के लिए पास जारी किया जाए

*भारतीय मीडिया फाउंडेशन ने की मांग*
*लोकसभा चुनाव में सभी प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक तथा डिजिटल मीडिया से जुड़े हुए पत्रकारों को चुनाव कवरेज करने के लिए पास जारी किया जाए इसके लिए सभी जिला मुख्यालयों पर मीडिया सेंटर का संचालन करें निर्वाचन आयोग*।
*देश के सभी प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक तथा डिजिटल मीडिया से जुड़े हुए पत्रकारों के नाम को सूचीबद्ध किया जाए इसके लिए केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार एक ऑनलाइन फॉर्म भरने के लिए पोर्टल चालू करने के साथ साथ ही देश में अभिलंब पत्रकार सुरक्षा अधिनियम को लागू करते हुए सभी जिला अधिकारी को दिशा निर्देश पत्र जारी करें*-
एके बिंदुसार संस्थापक भारतीय मीडिया फाउंडेशन एवं संस्थापक अंतर्राष्ट्रीय मीडिया अधिकार महा मोर्चा।
*नई दिल्ली*-भारतीय मीडिया फाउंडेशन के दिल्ली  महावीर एनक्लेव स्थित राष्ट्रीय कार्यालय से जारी बयान में भारतीय मीडिया फाउंडेशन एवं भारतीय मतदाता महासभा के संस्थापक एवं अंतर्राष्ट्रीय मीडिया अधिकार महा मोर्चा के संस्थापक सदस्य एवं अंतर्राष्ट्रीय संयोजक एके बिंदुसार ने केंद्र एवं राज्य सरकार से अभिलंब पत्रकार सुरक्षा अधिनियम को लागू करने की मांग के साथ साथ प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक तथा डिजिटल मीडिया से जुड़े हुए समस्त पत्रकार बंधुओ को लोकसभा चुनाव के दौरान चुनावी खबर को कवरेज करने हेतु प्रत्येक जिला मुख्यालय पर मीडिया सेंटर बनाकर पास जारी किये जाने की मांग की हैं।
उन्होंने कहा कि पत्रकार एवं सामाजिक कार्यकर्ताओं की अभिव्यक्ति की आजादी संवैधानिक एवं राष्ट्रहित में होगा है।
उन्होंने मांग करते हुए कहा कि हर कीमत पर प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक तथा डिजिटल मीडिया के  पत्रकारों के नामों को सूचीबद्ध किया जाए इसके लिए सरकार ऑनलाइन फॉर्म भरने के लिए पोर्टल चालू करें इसके साथ-साथ उन्होंने कहा कि सभी पत्रकारों की जनगणना होनी चाहिए।
श्री बिंदुसार ने बताया कि देश प्रदेश में कुछ ऐसे अखबार एवं इलेक्ट्रॉनिक चैनल हैं डिजिटल चैनल है जो स्वास्थ्य विभाग, कृषि क्षेत्र, व्यापार क्षेत्र, शिक्षा क्षेत्र में व्याप्त भ्रष्टाचार एवं इससे जुड़े हुए माफियाओं के खिलाफ उनके काले कारनामे को अपने अखबार  एवं इलेक्ट्रॉनिक चैनल व डिजिटल मीडिया चैनल के माध्यम से उजागर कर रहे हैं उनके ऊपर जानलेवा हमला होने का भी खतरा बना हुआ है पत्रकार कहीं सुरक्षित नहीं है सत्ता में बैठे हुए कुछ लोग ऐसे हैं जो चिकित्सा, कृषि, व्यापारिक, और शिक्षा से जुड़े हुए माफियाओं का भरपूर सहयोग कर रहे हैं अवैध तरीके से बहुत सारे ऐसे कार्य संचालित हो रहे हैं जो सरकार तक नहीं पहुंच रहा है जो भी भ्रष्टाचारी सरकार से जुड़े हैं वही भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठाने वालों का दमन कर रहे हैं।
उन्होंने स्पष्ट रूप से कहा कि कुछ ऐसे पत्रकार एवं कुछ ऐसे पत्रकार संगठन  हैं जो सोसाइटी रजिस्ट्रेशन कराने के बाद सरकार से मान्यता प्राप्त होने का दावा करते हैं और वही लोग ऐसे भ्रष्टाचारियों का भरपूर सहयोग प्रदान कर रहे हैं और भारी रकम की वसूली करते हैं भ्रष्टाचारियों का संरक्षण देते हैं वहीं दूसरी ओर जो अखबार एवं न्यूज़ चैनल के लोग ऐसे भ्रष्टाचार्यों के काले कारनामे का उजागर करते हैं उनको बदनाम करने की साजिश क्षेत्रीय भ्रष्टाचार में लिप्त तथा कथित कुछ पुलिस प्रशासन से मिलकर करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ते।
एके बिंदुसार ने कहा कि किसी कीमत पर उन लोगों को छोड़ा नहीं जाएगा जो पत्रकारिता की आड़ में काला कारनामा करते हैं और काला कारनामा करने वाले लोगों का मन बढ़ाने का काम करते हैं उनके खिलाफ भी प्रेस काउंसिल आफ इंडिया को पूरी रिपोर्ट दी जाएगी गृह मंत्रालय से लेकर केंद्रीय सूचना मंत्रालय, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग केंद्रीय सतर्कता आयोग में शिकायत की जाएगी एवं मुकदमा  पंजीकृत कराया जाएगा तक सारी रिपोर्ट विधिपूर्वक भेजी जाएगी और ऐसे लोगों के अखबार और चैनल पर कार्रवाई भी कराई जाएगी जो मीडिया जगत को बदनाम करने पर लगे हुए हैं।
उन्होंने कहा कि जो भी अखबार एवं न्यूज़ चैनल के लोग सशक्त मीडिया भ्रष्टाचार मुक्त भारत एवं सशक्त मीडिया समृद्ध भारत के नवनिर्माण के सिद्धांतों का पालन करते हुए अपने अखबार एवं न्यूज़ चैनल में भ्रष्टाचार का खुलासा कर रहे हैं ऐसे लोगों को भारतीय मीडिया फाउंडेशन की ओर से उत्कृष्ट पत्रकार रत्न सम्मान पत्र देकर सम्मानित किया जाएगा।

About The Author

निशाकांत शर्मा (सहसंपादक)

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *