अखिलेश जी… आपको न माया मिली न राम : ए.के. शर्मा

मंत्री ए.के. शर्मा का अखिलेश पर पलटवार

अखिलेश जी… आपको न माया मिली न राम : ए.के. शर्मा

गणित ग़लत ही पड़ रही है PDA की

जनता सब देख चुकी है, अब विश्वास कैसे करें

लखनऊ।

अखिलेश जी… आपको न माया मिली न राम। कैबिनेट मंत्री ए.के.शर्मा ने अखिलेश यादव के पीडीए में 90% का विश्वास वाले ट्वीट पर पलटवार करते हुए भाजपा में विश्वास करने वालों का आंकड़ा बताते हुए लिखा। मंत्री श्री शर्मा ने लिखा कि सबने देख लिया है, अब विश्वास हो भी कैसे ? भारत में एक बार फिर से मोदी सरकार जनता के पूर्ण विश्वास के साथ आ रही है।

प्रदेश के नगर विकास एवं ऊर्जा मंत्री श्री ए. के. शर्मा जी ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष द्वारा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म ‘एक्स’ पर पीडीए में जनता का 90% विश्वास वाले ट्वीट पर पलटवार करते हुए, उन्हें सही आंकड़ा बताया, जो आज और आने वाले समय में भाजपा के पक्ष में हमेशा रहेगा। मंत्री श्री शर्मा ने पलटवार करते हुए लिखा कि पीडीए की गणित गलत ही पड़ रही है।

उन्होंने लिखा कि अखिलेश जी द्वारा पीडीए के पक्ष में प्रस्तुत आंकड़ों में 51% अर्थात् बहुतायत पिछड़ों का विश्वास पीडीए में नहीं है। वहीं 84% यानी सभी दलितों का, 79% यानी बहुतायत मुस्लिम सहित अल्पसंख्यकों के साथ ही 96% यानी सभी अगड़ों में पिछड़ों का विश्वास भी पीडीए में नहीं है तो किस गणित से 90% का विश्वास पीडीए में आपको अपने सर्वे में दिखाई दे रहा है।

बता दें, कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ‘एक्स’ पर ट्वीट करते लिखा, पीडीए में विश्वास करने वालों के सर्वे में कुल मिलाकर 90% की बात इस प्रकार है कि 49% पिछड़ों का विश्वास, 16% दलितों का विश्वास, 21% अल्पसंख्यकों का विश्वास (मुस्लिम+ सिख+ बौद्ध+ईसाई+ जैन व अन्य+ आदिवासी) और 4% अगड़ों में पिछड़ों का विश्वास पीडीए में है। इन 90% में से अधिकांश इस बार पीडीए के लिए एकजुट होकर वोट करेंगे। जिस पर मंत्री ए.के. शर्मा ने 49% पिछड़ों के अलावा 51% पिछड़ों, 16% दलितों के अलावा 84% दलितों, 21% अल्पसंख्यकों के अलावा 79% अल्पसंख्यको के साथ ही 4% अगड़ों में पिछड़ों के अलावा 96% लोगों का विश्वास भारतीय जनता पार्टी के ‘सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास’ करने वाली केंद्र और राज्य की सरकार में हैं। भारत की जनता ने भाजपा के नेतृव वाली केंद्र और राज्यों की सरकारों के कार्यों को देख रखा है और पूर्ण विश्वास भी करती है। उन्होंने कहा कि साथ ही आपको भी सबने देखा है, तो अब आपपर विश्वास करे भी कैसे।

About The Author

निशाकांत शर्मा (सहसंपादक)

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Notifications OK No thanks