राजकीय कृषि एवं विकास प्रदर्शनी ग्राउंड हुआ तालाब में तब्दील

लोकेशन एटा

राजकीय कृषि एवं विकास प्रदर्शनी ग्राउंड हुआ तालाब में तब्दील

बारिश से नुमाईश पांडाल की टपकने से खस्ताहाल हालात

पता चला कि 1 करोड़ 62 लाख में ठेका होने के बाबजूद भी नहीं मिली समस्याओं से निजात

वारिश से 3 दुकाने गिरने से ब्यापारी व्यथित दिखे

एटा – एटा 1 फरवरी 2024 जनपद में 12 जनवरी से राजकीय कृषि एवं विकास प्रदर्शनी का शुभारंभ मंडला आयुक्त रविंद्र सिंह द्वारा विधिवत हवन पूजन के वाद फीताकाट कर किया गया था।

नुमाईस ग्राउंड का ठेका हर वर्ष से महंगा 1 करोड़ 62 लाख का उठने के बाबजूद भी ब्यापारियों एवं आमजन को पूर्ण रूप से आवागमन की समस्याओं से निजात पाने की आवश्यक सुविधाएं मुहेया नहीं हो सकी।

एक रात की बारिश ने प्रशांसन की पोल खोलकर रख दी।

वारिश से ब्यापारिओं को भारी नुकशान की आशंका व्यक्त की जा रही हैं।

वारिश से पांडाल में बारिश के पानी भरने से व्यवस्थाएं चरमारा गयीं।

1 करोड़ 62 लाख का ठेका होने के वाद भी ब्यापारियों एवं छोटे छोटे दुकानदारों को अव्यवस्थाओं से गुजरना पड़ रहा हैं।

इतना महंगा ठेका होने के बाबजूद ब्यापारियों की समस्याओं का निदान को दृष्टिगत नहीं रखा जाता हैं। जानबूझ कर प्रशांसन क्यों कुम्भकरणी नींद में सोया रहता हैं।

एटा नुमाईश के समय हर वर्ष बारिश होती होती हैं। फिर भी प्रशांसन जानबूझ कर बारिश से बचाब के लिये प्रशांसन कुम्भकरणी नींद से जागने का नाम नहीं लेता हैं।

ब्यापारियों को ठेकेदारों द्वारा छोटी छोटी दुकानों के लिये जगह देने के एवज में मोटी रकम चुकानी पड़ती हैं। किन्तु आवश्यक सुविधाओं से वंचित क्यों रखा जाता हैं। जरा सी वारिश से नुमाईश ग्राउंड तालाब में तब्दील हो जाते हैं।

जिला प्रशांसन द्वारा जानबूझ कर इन समशयाओं से निजात दिलाने में नाकारा सावित होता हैं।

About The Author

निशाकांत शर्मा (सहसंपादक)

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Notifications OK No thanks