शहर में अवैध रूप से रखे गए लंगूरों को किया ज़ब्त, उन्हें बचा कर वापस जंगल में छोड़ा

अवैध वन्यजीव शोषण के खिलाफ कार्यवाही करते हुए, उत्तर प्रदेश वन विभाग ने आगरा के सदर छेत्र स्थित कंपनी गार्डन से नौ भारतीय ग्रे लंगूरों को सफलतापूर्वक बचाया। इनमें 6 मादा, 2 नर और एक बच्चा लंगूर शामिल थे, इन सभी को रस्सी से बांध कर रखा हुआ था। टीम ने सावधानीपूर्वक रस्सियों को हटाया और संबंधित अधिकारियों से अनुमति लेने के बाद, लंगूरों को वापस जंगल में छोड़ दिया।

अवैध वन्यजीव शोषण अभियान में, उत्तर प्रदेश वन विभाग को आगरा के सदर क्षेत्र में एक आवासीय कॉलोनी में बंधे 8 लंगूरों के बारे में शिकायत मिली। सूचना मिलने पर वन विभाग ने त्वरित कार्यवाही करते हुए सारे लंगूरों को बचाया, जिनमें छह मादा, दो नर और एक बच्चा शामिल था।

लंगूरों को अलग-अलग पिंजरों में बंद कर उन्हें सुरक्षित रूप से स्थानांतरित किया गया, और अदालत से अनुमति प्राप्त करने के बाद, उन्हें वाइल्डलाइफ एसओएस की सहायता से उनके प्राकृतिक आवास में छोड़ दिया गया।

आदर्श कुमार, प्रभागीय वन अधिकारी, आगरा ने कहा, “यह एक अवैध व्यापार है और हम कई लोगों को ट्रैक करने और इस प्रथा को कम करने की कोशिश कर रहे हैं, क्योंकि लंगूर वन्यजीव संरक्षण अधिनियम, 1972 की अनुसूची II के तहत संरक्षित है। अन्य जंगली जानवरों को रखना जैसे तोते और कछुए भी अवैध हैं, और ऐसा करना हमें आवश्यक कानूनी कार्रवाई करने पर मजबूर कर सकता है।

बैजूराज एम.वी, डायरेक्टर कंज़रवेशन प्रोजेक्ट्स, वाइल्डलाइफ एसओएस ने कहा, “हम मानव-वन्यजीव संघर्ष और जंगली जानवरों की अवैध खरीद को कम करने के लिए दो दशकों से भी अधिक समय से वन विभाग के साथ काम कर रहे हैं। चूंकि हमारे पास वन्यजीव अस्पताल है, और जानवरों की जांच के लिए सुविधाएं और पशु चिकित्सा टीम है, इसलिए हम उन्हें जंगल में छोड़ने से पहले उनकी अच्छे से चिकित्सकीय परीक्षण करते हैं।

लंगूर और बंदर की सदियों पुरानी प्रतिद्वंद्विता का फायदा उठाते हुए, शिकारी जंगल से लंगूरों को पकड़ लेते हैं ताकि उन्हें विभिन्न शहरों में बढ़ते बंदरों के खतरे से निपटने के लिए प्रशिक्षित किया जा सके। हालाँकि, यह पूर्ण रूप से गलत है, और इस मिथक का फायदा उठाते हुए यह लोग इस प्रथा को और भी बढ़ावा देता है।

भारतीय ग्रे लंगूर काले चेहरे और कानों वाला एक बड़ा प्राइमेट है, और पेड़ों पर संतुलन बनाए रखने के लिए इसकी एक लंबी पूंछ होती है। लंगूर सबसे अधिक भारत, श्रीलंका, बांग्लादेश और पाकिस्तान में पाए जाते हैं। वे रेगिस्तानों, वर्षावनों और पर्वतीय आवासों में निवास करते हैं। वे मानव बस्तियों के लिए अच्छी तरह से अनुकूलित हो सकते हैं, और गांवों, कस्बों और आवास या कृषि वाले क्षेत्रों में भी देखे जा सकते हैं।

About The Author

निशाकांत शर्मा (सहसंपादक)

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *