304बी के आवश्यक तत्वों को साबित करने में सक्षम है तो न्यायालय अभियुक्त को दोषी मान लेगा: झारखंड हाइकोर्ट

LEGAL UPDATE


https://www.facebook.com/RastogiLawFirm/

Dowry Death: यदि अभियोजन पक्ष आईपीसी की धारा 304बी के आवश्यक तत्वों को साबित करने में सक्षम है तो न्यायालय अभियुक्त को दोषी मान लेगा: झारखंड हाइकोर्ट

🔘 झारखंड हाइकोर्ट ने फैसला सुनाया कि जब अभियोजन पक्ष भारतीय दंड संहिता की धारा 304-बी के मूल तत्वों को स्थापित करता है तो न्यायालय अभियुक्त को दोषी मान सकता है। परिणामस्वरूप, भारतीय साक्ष्य अधिनियम (Indian Evidence Act) की धारा 106 के प्रावधान के तहत दोष के इस अनुमान को चुनौती देने और अपनी बेगुनाही साबित करने का भार अभियुक्त पर आ जाता है।

जस्टिस रत्नाकर भेंगरा और अम्बुज नाथ ने कहा,

“भारतीय साक्ष्य अधिनियम 1872 की धारा 113-बी का प्रावधान विधानमंडल की मंशा को दर्शाता है, जिसके तहत न्यायालय की ओर से यह अनिवार्य रूप से लागू किया जाता है कि मृत्यु उस व्यक्ति द्वारा की गई, जिसने दहेज की मांग के संबंध में उसके साथ क्रूरता और उत्पीड़न किया। एक बार जब भारतीय दंड संहिता की धारा 304-बी का मूल तत्व अभियोजन पक्ष द्वारा साबित कर दिया जाता है तो न्यायालय अभियुक्त के अपराध को मान लेगा। इस स्तर पर भारतीय साक्ष्य अधिनियम की धारा 106 के प्रावधान के अनुसार दोष की इस धारणा को खारिज करने और अपनी बेगुनाही साबित करने का भार अभियुक्त पर आ जाता है।”

उपरोक्त निर्णय अपीलकर्ता सुरेश प्रसाद द्वारा हजारीबाग के अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश-I रमेश कुमार द्वारा पारित सत्र परीक्षण मामले के संबंध में दोषसिद्धि और सजा के आदेश के खिलाफ दायर अपील में आया जिसमें अपीलकर्ता को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 304-बी के तहत अपराध का दोषी ठहराया गया। इस प्रकार उसे आजीवन कठोर कारावास की सजा सुनाई गई।

🟤 अभियोजन पक्ष का मामला सूचक द्वारिका महतो की लिखित रिपोर्ट के आधार पर शुरू किया गया, जिसमें आरोप लगाया गया कि उनकी बेटी लखिया देवी की शादी एक साल पहले हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार अपीलकर्ता से हुई।

🔵 आरोप है कि शादी की तारीख के पांच महीने बाद अपीलकर्ता ने अपने परिवार के सदस्यों के साथ मिलकर रंगीन टीवी और मोटरसाइकिल की मांग को लेकर उसे प्रताड़ित करना शुरू कर दिया और 24-03-2011 को उसकी ससुराल में हत्या कर दी गई।

🟢 जांच के बाद यह कहा गया कि पुलिस ने घटना को सत्य पाया और आईपीसी की धारा 304-बी के तहत अपीलकर्ता के खिलाफ आरोप पत्र प्रस्तुत किया। मामले का संज्ञान मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी, हजारीबाग द्वारा उपरोक्त धारा के तहत लिया गया।

रिकॉर्ड पर उपलब्ध साक्ष्य के आधार पर, ट्रायल कोर्ट ने अपीलकर्ता को आईपीसी की धारा 304-बी के तहत अपराध का दोषी पाया। तदनुसार उसे सजा सुनाई।

🔴 अपीलकर्ता के वकील अनिल कुमार झा ने कहा कि घटना का कोई प्रत्यक्षदर्शी नहीं है और अभियोजन पक्ष आईपीसी की धारा 304-बी के तहत अपीलकर्ता के खिलाफ अपना मामला साबित करने में विफल रहा है।

🛑 राज्य की ओर से एपीपी वकील मनोज कुमार मिश्रा ने कहा कि मृतका की शादी के एक साल के भीतर ही उसके ससुराल में अप्राकृतिक परिस्थितियों में मृत्यु हो गई। उन्होंने आगे कहा कि अपीलकर्ता दहेज की मांग करता था और मांग को पूरा करने के लिए मृतका को प्रताड़ित किया जाता था। उन्होंने यह भी कहा कि अपीलकर्ता भारतीय साक्ष्य अधिनियम की धारा 106 के तहत अपने दायित्व का निर्वहन करने में विफल रहा। इस प्रकार अपील को खारिज कर दिया जाता है।

🟣 न्यायालय को यह पता लगाना है कि क्या अभियोजन पक्ष अपीलकर्ता के विरुद्ध सभी उचित संदेहों से परे अपना मामला साबित करने में सक्षम है तथा उपर्युक्त निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए यह भी पता लगाना है:

I. क्या अपीलकर्ता की मृत्यु विवाह के सात वर्ष के भीतर हुई थी?

II. क्या उसकी मृत्यु अप्राकृतिक थी?

III. क्या घटना से ठीक पहले दहेज की मांग की गई, तथा मांग को पूरा करने के लिए उसे प्रताड़ित भी किया गया?

IV. यदि उपर्युक्त तथ्य सिद्ध हो जाते हैं तो यह अंतिम रूप से पता लगाना होगा कि क्या अपीलकर्ता ने भारतीय साक्ष्य अधिनियम की धारा 106 के तहत लगाए गए अपने दायित्व का निर्वहन किया।

मृतक की मां जानकी देवी (पी.डब्लू.3) और सूचक द्वारिका महतो (पी.डब्लू.4) की गवाही पर विचार करने के बाद न्यायालय ने पाया कि दोनों गवाहों ने पुष्टि की कि मृतक लखिया देवी की गला घोंटकर हत्या की गई और उसका शव उसके वैवाहिक घर में खाट पर पाया गया, जबकि अपीलकर्ता और परिवार के अन्य सदस्य भाग गए।

🟠 न्यायालय ने डॉ. राजेश कुमार गुप्ता (पी.डब्लू.1) की गवाही पर भी विचार किया, जिन्होंने पोस्टमार्टम किया था। यह पाया गया कि डॉ. गुप्ता के अनुसार मौत का कारण गर्दन पर गला घोंटने के कारण दम घुटना था। न्यायालय ने पाया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट (प्रदर्श-1) ने मृतक को लगी चोटों और मौत के कारण के बारे में उनकी मौखिक गवाही की पुष्टि की।

🟡 मौखिक और दस्तावेजी साक्ष्य के आधार पर न्यायालय ने निष्कर्ष निकाला कि अभियोजन पक्ष ने सफलतापूर्वक यह प्रदर्शित किया कि लखिया देवी की मृत्यु से लगभग एक वर्ष पहले अपीलकर्ता सुरेश प्रसाद से शादी हुई थी और यह स्थापित हुआ कि अपीलकर्ता मोटरसाइकिल और रंगीन टेलीविजन की मांग कर रहा था। इन मांगों को पूरा करने के प्रयास में मृतक को प्रताड़ित किया।

न्यायालय ने यह भी उल्लेख किया कि अभियोजन पक्ष ने यह भी साबित किया कि मृतक की हत्या उसके वैवाहिक घर में की गई।

आगे बढ़ते हुए न्यायालय ने कहा कि एक बार उपरोक्त तथ्य सिद्ध हो जाने के बाद भारतीय साक्ष्य अधिनियम, 1872 की धारा 113-बी जो दहेज मृत्यु के बारे में अनुमान से संबंधित है लागू होती है।

न्यायालय ने उल्लेख किया कि अपीलकर्ता का बयान सीआरपीसी की धारा 313 के तहत दर्ज किया गया। यह कहने के अलावा कि उसने दहेज की मांग नहीं की और न ही उसने मृतक की हत्या की, उसने अपने अपराध की मूल धारणा का खंडन करने और अपनी बेगुनाही साबित करने के लिए रिकॉर्ड पर कोई सामग्री नहीं लाई।

⏹️ न्यायालय ने कहा कि यह तथ्य कि अपीलकर्ता और उसके परिवार के सदस्य मृतक के शव को छोड़कर घटनास्थल से भाग गए, अपीलकर्ता के खिलाफ साक्ष्य के पैमाने को और अधिक भारी बनाता है।

⏺️ उपर्युक्त तथ्यों और परिस्थितियों से न्यायालय ने रेखांकित किया कि यह पता चला है कि अभियोजन पक्ष ने भारतीय दंड संहिता की धारा 304-बी के तहत अपीलकर्ता के खिलाफ अपना मामला सफलतापूर्वक साबित कर दिया। अपीलकर्ता भारतीय साक्ष्य अधिनियम की धारा 106 के तहत परिकल्पित अपने दायित्व का निर्वहन करने में विफल रहा है।

इस प्रकार न्यायालय ने भारतीय दंड संहिता की धारा 304-बी के तहत अपीलकर्ता को दोषी पाए जाने के ट्रायल कोर्ट के फैसले की पुष्टि की।

रिकॉर्ड के अवलोकन से न्यायालय ने कहा,

▶️ “यह पता चलता है कि अपीलकर्ता 06-12-2012 से हिरासत में है यानी वह लगभग ग्यारह वर्षों से हिरासत में है। आईपीसी की धारा 304-बी के तहत अपराध सात साल से लेकर आजीवन कारावास तक की अवधि के लिए दंडनीय है। ट्रायल कोर्ट ने अपीलकर्ता पर अधिकतम सजा उसके खिलाफ़ कम करने वाली और गंभीर परिस्थितियों पर चर्चा किए बिना लगाई।

हालांकि मामले के पूरे तथ्यों और अपीलकर्ता द्वारा हिरासत में बिताए गए समय को ध्यान में रखते हुए कोर्ट ने ट्रायल कोर्ट द्वारा लगाई गई सजा खारिज की और अपीलकर्ता को आजीवन कारावास की सजा काटने का निर्देश दिया। उक्त निर्देश यह देखते हुए दिया कि ट्रायल कोर्ट ने कम करने वाली या गंभीर परिस्थितियों पर चर्चा किए बिना अधिकतम सजा लगाई।

👉🏽 तदनुसार आजीवन कारावास की सजा खारिज कर दी गई और अपीलकर्ता को पहले से काटे गए कारावास की सजा सुनाई गई, क्योंकि वह पहले ही 11 साल की सजा काट चुका था और दहेज हत्या के लिए सजा 7 साल से लेकर आजीवन कारावास तक है।

केस टाइटल- सुरेश प्रसाद बनाम झारखंड राज्य

About The Author

निशाकांत शर्मा (सहसंपादक)

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *