स्वेच्छा से शस्त्र लायसेंस त्यागने का सिलसिला अनवरत जारी , डीएम कर रहे सम्मानित

( खूंखार अपराधियों के भय के चलते सुरक्षा के लिहाज से पूर्व में बनवाऐ थे शस्त्र लायसेंस )


एटा ( राकेश कश्यप ) ! कभी खूंखार डकैतों व अपराधियों के पनाहगार रहे एटा जिले में योगी राज के चलते अब संगीनो से निकलने वाली बुलेट की तडतडाहट दूर दूर तक सुनायी नहीं पडती ! उत्तर प्रदेश में कानून का राज स्थापित होने के बाद खूंखार अपराधी या तो मां भारती की धरती से राम नाम सत्य करके अलविदा हो लिऐ अथवा जो कुछ बचे हैं वह योगी राज के भय से जेल के सीखचों में अपने किये कराऐ गलत कर्मो का प्रायश्चित कर रहे हैं ! पूर्व की सरकारों में कुछ सफेदपोश राजनीतिञों का संरक्षण पाऐ खूंखार अपराधियों एवं माफियाओं के आपराधिक आतंक से निजात पाने के लिए सुरक्षात्मक द्रष्टि से व्यापारियों, उद्योगपतियों, पत्रकारों, राजनेताओं सहित आम जनमानस द्वारा एटा जिले में लगभग 32923 शस्त्र लाइसेंस बनवाऐ गऐ थे ! जिनमें से वर्तमान में कुल शस्त्र धारकों की संख्या 32597 है ! परन्तु उत्तर प्रदेश में जब से आदित्यनाथ योगी के नेत्रत्व में पारदर्शी सरकार का गठन हुआ है तबसे न जाने कितने खूंखार अपराधी पुलिस मुठभेड़ में मारे गऐ तथा अनगिनत संख्या में नामचीन अपराधी खुद को गले में पट्टी लटकाकर थाने पर आकर पुलिस के समक्ष सरेन्डर कर गऐ ! जहां तक एटा जिले का प्रश्न है तो इन दिनों यहां पर तैनात हंसमुख मधुर व्यवहारशाली जिलाधिकारी प्रेमरंजन सिहं एवं अपराधियों के लिए नासूर बने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक राजेश कुमार सिंह के मधुर समन्वय नीति के चलते जिले के नामचीन अपराधी या तो जिला छोडकर नौ दो ग्यारह हो लिऐ अथवा जिला कारागार के सीखचों के अन्दर रहकर अपने किऐ गऐ गैरकानूनी क्रत्यों के लिए प्रायश्चित कर रहे है ! योगी राज में जिले के अन्दर बेहतर कानून व्यवस्था के चलते जिन लोगों ने सुरक्षात्मक द्रष्टि से शस्त्र लायसेंस लेकर शस्त्र क्रय किऐ थे, उनमे से अधिकांश अमन पसन्द लोग जिले में भयमुक्त वातावरण के चलते अब अपने अपने शस्त्र लायसेंसों को स्वेच्छा से त्यागने के लिये आगे आ रहे है, जिनका सम्मान भी जिलाधिकारी प्रेमरंजन सिहं द्वारा किया जा रहा है तथा जिलाधिकारी द्वारा अपने शिविर कार्यालय में एक बोर्ड भी लगवाया गया है जिस पर शस्त्र त्यागने वाले लायसेंसी लोगों के सम्मानपूर्वक नाम अंकित किऐ गऐ है! जिलाधिकारी की इस पहल का शस्त्र लायसेंसधारकों ने तहे दिल से स्वागत किया है तथा जिले में भयमुक्त वातावरण के चलते शस्त्र धारकों का स्वेच्छा से शस्त्र त्यागने का सिलसिला अनवरत जारी है ! अब तक समूचे जिले के शस्त्र लायसेंस धारकों में जलेसर लोकसभा के पूर्व सांसद कैलाश चन्द यादव सहित कई व्यापारी व महिलाओं ने स्वेच्छा से अपने अपने शस्त्र लायसेंस सरेन्डर किऐ हैं तथा ऐसा लगता है कि जिलाधिकारी प्रेमरंजन सिहं की पहल आगे भी रंग लाऐगी और यह सिलसिला अनवरत चलता रहेगा!
रिपोर्ट – दैनिक दीक्षित टाइम्स एटा

About The Author

निशाकांत शर्मा (सहसंपादक)

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *