गंगा महाआरती एवं हटकेश्वर महादेव पूजन” श्रावण मास की पूर्णिमा रक्षाबंधन को संपन्न होगा

करणी सेना एवं महादेव घाट जनसेवा समिति के सौजन्य से खारुन गंगा महाआरती एवं हटकेश्वर महादेव पूजन” श्रावण मास की पूर्णिमा रक्षाबंधन को संपन्न होगा

राजधानी रायपुर से प्रवीण शर्मा

30अगस्त 2023, बुधवार को महादेव घाट रायपुर में संध्या 05 बजे से की जाएगी खारुन गंगा महाआरती। गत 8 महीनों से लगातार करणी सेना एवं माँ खारुन गंगा महाआरती महादेव घाट जनसेवा समिति द्वारा बनारस की तर्ज पर प्रत्येक महीने की पूर्णिमा को संपन्न होने वाली “खारुन गंगा महाआरती एवं हटकेश्वर महादेव पूजन” इस बार श्रावण मास की पूर्णिमा की संध्या को भाई बहन के पावन दिन रक्षाबंधन पर आयोजित किया जाएगा। यह आरती प्रशिक्षित ब्राह्मणों द्वारा संपूर्ण विधि विधान से मंत्रोच्चारों के बीच संपन्न होगी। इस अवसर पर रायपुर के सुप्रसिद्ध भजन सम्राट लल्लू महाराज की टीम द्वारा सुमधुर भजनों की प्रस्तुति दी जाएगी।
करणी सेना की छ:ग:की पूरी टीम एवं माँ खारुन गंगा महाआरती महादेव घाट जनसेवा समिति के साथ शहर के सभी सनातनियों से अधिक से अधिक संख्या में इस महाआरती में सम्मिलित होने का आह्वान किया है । साथ ही जो बंधु आरती में मुख्य यजमान के रूप में आरती करना चाहते हैं वे शीघ्र ही समिति को सूचना देकर अपना नाम लिखावा सकते हैं उन्हें पूर्णतः निःशुल्क आरती करने एवं दीपदान करने का अवसर प्रदान किया जाएगा।
यह आरती गत वर्ष दिसंबर 2022 से प्रत्येक महीने की पूर्णिमा की तिथि पर होती आ रही है। इस बार करणी सेना ने रक्षाबंधन के अवसर पर अधिक से अधिक संख्या में बहनों से आह्वान किया है माँ खारुन गंगा मैया की आरती में उपस्थित होकर अपने भाइयों की रक्षा हेतु हटकेश्वर महादेव का आशीर्वाद प्राप्त करें।
करणी सेना के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एव छत्तीसगढ़ प्रदेश अध्यक्ष वीरेंद्र सिंह तोमर ने बताया प्रत्येक माह आरती में श्रद्धालुओं की बढ़ती संख्या इस बात की सूचक है कि इस पुण्य आयोजन में जन भागीदारी और आस्था इसे पूरे देश के लिए आकर्षण का केंद्र बनाती जा रही है जिससे प्रभावित होकर अन्य स्थानों में भी खारुन की तरह लोक उपलब्ध नदियों का पूजन आरंभ हो रहा है। हमारी प्राचीन पुरातन संस्कृति को भी बढावा मिल रहा है सभी को इस आयोजन में अवश्य पधारेंने और पुण्यलाभ के भागी बनेंने के लिए तोमर जी और उनकी पूरी टीम ने आह्वान किया है

About The Author

निशाकांत शर्मा (सहसंपादक)

Learn More →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *